पिथौरागढ़ में धूमधाम से मनाया जा रहा है सातूं-आठूं लोकपर्व

पिथौरागढ़ में धूमधाम से मनाया जा रहा है सातूं-आठूं लोकपर्व

पिथौरागढ़ में धूमधाम से मनाया जा रहा है सातूं-आठूं लोकपर्व

   पिथौरागढ़। सीमांत जनपद में सातूं-आठूं लोकपर्व धूमधाम से मनाया जा रहा है। सातूं-आठूं भगवान शिव और पार्वती (गौरा- महेश्वर) को बेटी और जमाई के रूप में विवाह बंधन में बांधने का पर्व है। इस पर्व के दौरान गौरा और महेश के विवाह की रस्में निभाई जाती हैं और बेटी व दामाद की पूजा-अर्चना भी की जाती है। इस अवसर पर विवाहित महिलाएं हाथ में पीले धागे युक्त डोर और गले में लाल धागे युक्त दुबड़े कहे जाने वाले खास धागे धारण कर अखंड सौभाग्य और सुख-समृद्धि की कामनाओं के साथ गौरा-महेश की गाथा गाते हुए उपासना करती हैं। इस दौरान महिलाओं द्वारा बनाई गई गौरा-महेश्वर की प्रतिमाएँ विशेष आकर्षण का केंद्र बनी रहती हैं। यह पिथौरागढ़ जनपद का विशिष्ट पर्व है। 

उत्तराखंड सांस्कृतिक समाचार